बुधवार, 9 जून 2010

प्री-टेक्निक युग की खुदाई


नीम का पेड़
छोटे -छोटे शालिग्राम
कुए का ठंडा पानी
और  पीपल की नरम छांह
सुबह का कलेवा
'अग्गा राजा दुग्गा दरोगा'
गन्ने का रस और दही
साथ में आलू की सलोनी
गेरू और चूने से
लिपे पुते   घर में
आँगन और तुलसी
दरवाजे की देहरी
ताख में रखा दिया
उजास का पहरिया
बाबा की झोपड़ी
और मानस की पोथी
लौकी की बेले
छप्पर पर आँखमिचौनी खेले
आमो का झूरना
महुए  का बीनना
अधपके गेहू की  बाली का चूसना
बगल के बांसों की
बजती बांसुरी
खेत खलिहान में काम करते
बैल हमारे परिवार के
और पास में चरते गोरू बछेरू  घर के
प्री-टेक्निक युग की खुदाई में
मिली ये सारी वस्तुए
जिनको मैंने खोया था
कई बरस पहले
कई बरस पहले...............

6 टिप्‍पणियां:

Dr KIRAN ने कहा…

bachpan ki yade kabhi-kabhi ham sabhi jite hai use kavita me utarne ke liye sadhuvad.

Udan Tashtari ने कहा…

सच कहा...टेक्निकल युग में ये सब खो गया है.

Harshkant tripathi ने कहा…

bahut achhe se yad kiya hai aapne apne kal ko.

Manish ने कहा…

Dil ko chhune wali lines.......

Bahut Sundar................

Paramanand Gupta ने कहा…

ये रचना तो एसी है की पढ़ क़र मुझे भी आपने बचपन की यादे आने लगी मुझे तो बहुत अच्छा लगा

बेनामी ने कहा…

varcevanje v zlatu [url=http://www.nalozba.info]naložba v delnice[/url]