बुधवार, 8 जनवरी 2014

मोहग्रस्त नारद बनाम बन्दर मीडिया

इस समय मीडिया की अवस्था देखकर मुझे रामायण की एक कथा याद आती है जिसमे नारद एक सुन्दरी विश्वमोहिनी के रूप जाल में फंस कर अपने धर्म से विमुख होकर उसके स्वयंवर में एक उम्मीदवार बन कर दरबार में पहुँच जाते है तथा उसे आकर्षित करने के भाँती भाँती उपाय करते है।  कभी ठुमक कर उसके रास्ते में आ जाते है तो कभी जोर जोर से बोलकर ध्यान आकृष्ट करने की कोशिश करते है।  ठीक यही स्थित आज मीडिया की हो गयी है।  सत्ता सुन्दरी के चक्कर में मीडिया नारद बन गया है तब नारद का मुह बन्दर की तरह था आज मीडिया का मुह "अपाई " हो गया है।
साहब मज़ाल क्या कि केजरीवाल छींक दे और मीडिया उसे प्रसाद समझ कर मुख्या खबर न बना दे।  मैंने पिछले हप्ते का टाइम्स ऑफ़ इंडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का बारीकी से अध्ययन किया तो पता चला कि समाचारों में लगभग ५० से ६० प्रतिशत स्थान आ आ पा से जुडी खबरे घेरती है जबकि १५ से २० प्रतिशत स्थान  फ़िल्मी कलाकारों एवं उत्तेजना को समर्पित रहता है। बाकी में विज्ञापन और अन्य खबरे रहती हैं।  उदाहरण के लिए छत्तीसगढ़ की रमन सरकार ने जब एक हेल्पलाइन नंबर जारी किया तो सामान्य खबर के तरह नीचे पट्टी पर चला दिया गया जबकि केजरीवाल ने जब यही किया तो बाकायदा सजीव प्रसारण सारे चैनलो पर हुआ और आज टाइम्स ऑफ़ इंडिया की हैडलाइन भी यही खबर बनी।

इन सब बातो से कुछ प्रश्न बनते है

क्या मान लेना चाहिए कि जल जंगल जमीन से जुड़े मुद्दे अब अर्थहीन हो गये ?
क्या मान लेना चाहिए कि सामान्य व्यक्ति की दुश्वारियां अब अर्थहीन हो गयी? 
क्या मान लेना चाहिए कि मीडिया बन्दरत्व को प्राप्त हो गया है?

यदि हाँ तो हमें नये विकल्पों को शिद्दत से ढूंढना होगा और यदि नही तो जो दिख रहा है उसे किस रूप में परिभाषित किया जाय ? समाचार या बंदरबाजी ?

5 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

पवन विजय जी , दो दिन के समाचार से आप अभी से घबरा गये / अभी तो जनरल इलेक्सन सामने है ,तब देखिये क्या क्या होता है |
नई पोस्ट सर्दी का मौसम!
नई पोस्ट लघु कथा

रविकर ने कहा…

चले रिपोर्टिंग छोड़कर, पॉलिटिक्स के द्वार |
आशुतोष संतोष बिन, सम्भावना अपार ||
सम्भावना अपार, आप आपे से बाहर |
आपा बढ़ता जाय, कहाँ अब मोदी घर घर |
चाहे डूबे देश, आप की खातिर वोटिंग |
जुटा मीडिया देख, रात दिन चले रिपोर्टिंग ||

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

ब्लॉग बुलेटिन ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कहीं ठंड आप से घुटना न टिकवा दे - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

शिवम् मिश्रा ने कहा…

आगे आगे देखिये होता है क्या !!