शनिवार, 29 अप्रैल 2017

राष्ट्रीय पत्रकारिता के नाम पर



पत्रकारिता के संदर्भ में दो शब्द अक्सर सुनने को मिलते हैं राष्ट्रीय पत्रकार और क्षेत्रीय पत्रकार, राष्ट्रीय समाचार पत्र और क्षेत्रीय समाचार पत्र, नेशनल चैनल और रीजनल चैनल।   सवाल यह उठता है कि राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दोनों के मापदंड क्या हैं ?  एक कच्चा पक्का जवाब आता है कि जो समाचार पत्र या समाचार चैनल पूरे देश की ख़बरें चलाये वह राष्ट्रीय है  बाकी कुछ क्षेत्र विशेष की खबर चलाने वाले क्षेत्रीय की श्रेणी में आते हैं। जब हम इस मापदंड से अखबारों और न्यूज़ चैनलों को देखते हैं तो सहज ही हमें यह पता चल जाता है कि इस किसिम का भेद महज तथाकथित बड़े घरानों के अहंकार और तथ्यों की  आधारहीनता के अलावा और कुछ भी नही है।   दिल्ली का चैनल जब दिल्ली की नगरपालिका चुनाव पर पूरे हप्ते कार्यक्रम चला सकता है और उसकी दृष्टि में तमिलनाडू  या पुदुच्चेरी के नगरपालिकाओं के चुनावों की कोई अहमियत नही होती तो इस तथ्य को सहज ही समझा जा सकता है कि राष्ट्रीयता और क्षेत्रीयता के पैमाने क्या हो सकते हैं।   कम से कम दूरदर्शन के राष्ट्रीय और क्षेत्रीय प्रसारण को देखकर संतोष होता है कि यह भारत के विभिन्न भागों के समाचार कला संस्कृति को तवज्जो देता है वरना जितने भी निजी चैनल राष्ट्रीय होने का हवाला देते हैं सबकी राष्ट्रीयता किसी ख़ास और दिखाऊ खबर या व्यक्ति या स्थान तक सीमित रहती है।    राष्ट्रीय चैनल होने न होने पर  एक और जवाब आता कि दर्शकों और पाठको तक पहुंच के आधार पर इस बात का फैसला होना चाहिए।   इस कसौटी पर अगर हम दिल्ली से निकलने वाले एक तथाकथित क्षेत्रीय अखबार के ऑनलाइन व्यूअरशिप  को देखें तो यह दिल्ली से ज्यादा बिहार में पढ़ा जाता  है तो इसका तात्पर्य क्या निकाला जाना चाहिए ? मतलब साफ़ है।  राष्ट्रीय या क्षेत्रीय होने का ठप्पा लगाने वालों की एक जमात है जो किसी समूह को विशेष सुविधा प्रधान करने या किसी को वंचित रखने के उद्देश्य से इस किसिम की ठप्पेबाजी करते रहते हैं और जिनको परम्परा के रूप में स्वीकार भी लिया गया है।   यह स्थिति एक विभाजनकारी मानसिकता का धीरे धीरे पोषण करती है।  दिल्ली में बैठी नेशनल मीडिया मात्र राष्ट्रीय राजधानी परिक्षेत्र और उत्तर प्रदेश के प्रभुत्वशाली क्षेत्रों को ही सम्पूर्ण राष्ट्र मानकर चलती है।   ऐसे में न तो दिल्ली के नागरिक को तमिल के दुःख सुख का पता ही नही होता है और तमिल नागरिक  दिल्ली को अपनी राष्ट्रीय अस्मिता से जोड़कर देखने में उदासीन बना रहता है। आवश्यकता इस बात की है कि  किसी खबर या खबरनवीस को  राष्ट्रीय या क्षेत्रीयता के आधार पर मापने की बजाय  उसे निरपेक्ष ढंग  देखा समझा इसी में पत्रकारिता  की उत्तरजीविता और सशक्तता निहित है वरना अन्तराष्ट्रीय जगत में भारत की पत्रकारिता को सबसे निचले  पायदान पर ही हमेशा देखना पडेगा।  

रविवार, 9 अप्रैल 2017

हिंदुत्व : राष्ट्रीयता या धर्म (Hindutva; Nationality or Religion)


मैं धर्म को जीने के तरीके के रूप में देखता हूँ। आप जितने सरल तरीके से हिंदुत्व को समझना चाहते हैं उतने सरल रूप में समझ सकते हैं। 
परहित सरिस धरम नहि भाई। परपीड़ा सम नहि अधमाई।  
आपको जटिल पांडित्य में जाने की भी छूट है पर सनद रहे पंडित जी पिंडदान  तक पीछा नहीं छोड़ेंगे। आप ईश्वर को मानें न मानें, किसी को भी ईश्वर मान सकते हैं। खान पान, वेश भूषा, रीति रिवाज व्यक्तिगत रूप से भिन्न हो सकता है। सब कुछ यहाँ है। जैसा कि श्रीकृष्ण ने कहा है कि जो जिस भाव से उन्हें भजता है स्मरण करता है विश्वास करता है वह उसे उसी भाव से प्राप्त होते हैं । यही कारण  है कि एक आस्थावान हिंदू बहुत ही सहजता के साथ अपने राम को गरीब नवाज कह देता है या उसे खुदा या जीसस की प्रार्थना करने या चादर चढाने अथवा मोमबत्ती जलाने में कोई हिचक नही होती जबकि अन्य आस्थावानों के लिए राम राम करना या मंदिर में प्रार्थना करना लगभग लगभग असंभव सा होता है। हिंदुत्व जीने का तरीका कैसे है उसे इस श्लोक में देखा जा सकता है 
धृति: क्षमा दमो स्तेयं शौचमिन्द्रिय निग्रह: । 
धीर्विद्या  सत्यमक्रोधो  दशकं धर्म लक्षणम् । 
अर्थात धीरज रखना,  क्षमा करना, भीतरी और बाहरी सफाई, बुद्धि को उत्तम विचारों में लगाना, सम्यक ज्ञान का अर्जन, सत्य का पालन ,  मन को बुरे कामों में प्रवृत्त न करना, चोरी न करना, इन्द्रिय लोलुपता से बचना, क्रोध न करना ये  दस  धर्म के लक्षण हैं । हिंदुत्व जीवन दर्शन आगे कहता है कि आत्मन: सर्वभूतेषु य: पश्यति सः पंडित: जो अपने में सभी प्राणियों को देखता है वही विद्वान् है। यही आध्यात्म का आधार कथ्य भी है। हिंदुत्व की सबसे बड़ी खूबी यह है कि वह स्तरीकरण और वर्गीकरण तो करता है किन्तु उसके आधार पर किसी के सम्मान, चयन और अवसरों  में भेद भाव नही करता है। जाति  व्यवस्था के स्तरीकरण  का आधार प्रकार्य हैं न कि ऊँच  नीच। उच्चता निम्नता कभी हिंदुत्व के विमर्श नही रहे अलबत्ता कार्यों को सही से करना मापदंड अवश्य रहा है। श्रीकृष्ण पुनः कहते हैं कि गुण के आधार पर वर्णों का निर्धारण होता है। समय के साथ प्रत्येक भौतिक और अभौतिक वस्तुओ में सही गलत चीजें जुडती जाती जिसका परिमार्जन व्यवस्था की जिम्मेदारी है। हिंदुत्व में परिमार्जन नित्य होता रहता है इसीलिये यह सनातन है नित्य नवीन है। वर्तमान समय में हिंदुत्व को लेकर कई भ्रमों का निर्माण हो गया है। हिंदू शब्द को राष्ट्रीयता का पर्याय बताया जा रहा है किसी को हिंदू शब्द धर्म के रूप में समझ में आ रहा है। यह भ्रम व्यर्थ का है। हिंदू जीवन पद्धति है जो हमारी राष्ट्रीयता का द्योतक है वही यह आस्था पद्धति भी है।  हमारी आस्थाएं अलग अलग हो सकती हैं किन्तु  हमारी जीवन पद्धति हमारे तरीके में राष्ट्रीय समानताएँ अवश्य हैं। हिन्दुस्तान में रहने वाले लोग हिंदू नही तो फिर क्या हैं ? हिंदू माने भारतीय । भारतीय आस्था पद्धति,  भारत के बाहर की आस्था पद्धति को भी स्वीकार करती है। लेकिन इसका ये मतलब नही कि आप अपने को भारतीय या हिंदू  मानना बंद कर दीजिये। जब न्यायपालिका  कहती है कि यतो धर्म: ततो जय तो वह कौन से धर्म की बात कर रही है ? सत्य की विजय करने की घोषणा कौन सा धर्म करता है ? धर्मो रक्षित रक्षत: की बात करने वाले  को किस धर्म के अंतर्गत रखा जा सकता है ? यह सब बातें इसलिए क्योंकि हम जीवन पद्धति और  आस्था पद्धति को लेकर कई भ्रमों को पाल रखे हैं। हिन्दुस्तान अरबी या यूरोपियन तौर तरीके से नहीं चल सकता। आपके पुरखे भारतीय है। यहीं की मिट्टी पानी से आप पले  बढे हैं यहाँ वे लोग  जिन्होंने गैर भारतीय आस्था पद्धति को अपना रखा है उनको  उतने ही संवैधानिक अधिकार मिले हैं जितना कि एक भारतीय आस्था पद्धति वाले को पर आपका  भारतीय होना  हिन्दुस्तानी तौर तरीके और हिंदुत्व के प्रति अपनी करीबी या दूरी ही तय करेगी अतः  आवश्यकता इस बात की है कि समस्त पूर्वाग्रहों को छोड़कर हम उन समान आधारों को खोजें जिनके आधार पर राष्ट्रीयता का निर्माण होता है।    

शनिवार, 1 अप्रैल 2017

हिन्दी की राष्ट्रीय स्वीकार्यता अभियान: गंगा में मिलिहें डूब कर नहइहें...अम्मा से मिलिहें त खुलकर बतिअइहें...

गंगा में मिलिहें डूब कर नहइहें...अम्मा से मिलिहें त खुलकर बतिअइहें...।
गोआ की राज्यपाल आदरणीय मृदुला सिन्हा जी मात्र राजनीतिक ही नही उनका मन मस्तिष्क में देसी बोली बानी  से ओत प्रोत है। उनके अनुसार सच में हिन्दी हमारी अम्मा और गंगा की श्रेणी में है। हिन्दी भले ही राष्ट्रभाषा नहीं बन सकी पर हिन्दी साहित्य को बचाए रखना है।   हिन्दी है भारत मां की बिंदी...हिन्दी में सजती है भारत की भाषाएं...
अंग्रेजी को देश की भाषा बनाने की कोशिशें हो रही हैं। भले ही अंग्रेजी पेट की भाषा बन गयी पर ह्रदय की भाषा तो हिन्दी ही है। आईटी के दौर में हिन्दी की अहमियत बढ़ गयी है।

हिन्दी हृदय की भाषा है।साहित्यकार ऐसे साहित्य का सृजन करें जो मात्र मनोरंजन और विलासिता का माध्यम न हो बल्कि हममें गति, संघर्ष और बेचैनी पैदा करे जिसमें जीवन की सच्चाइयों का प्रकाश हो। संघर्ष और गति की बातें हों ताकि हमें जीवन में आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा मिलती रहे। समाज को सिर्फ उसका आइना ही नहीं दिखाएं बल्कि आगे बढ़ने के लिए पथ-प्रदर्शन भी करें।साहित्यकारों को आम लोगों के हित और कल्याण से जुड़ाव तथा साहित्य को उत्तरदायी बनने के साथ नेतृत्व की भूमिका में भी आना होगा। जिन्हें धन और वैभव से प्यार है उनका साहित्य के मंदिर में कोई स्थान नहीं होता है। हिन्दी भाषा हमारी अस्मिता, संस्कृति और साहित्यिक मूल्यों का संवाहक है। इसके प्रति अटूट आस्था रखने से हमारे सभी दुख-दर्द दूर हो जाते हैं। यह राष्ट्रीय एकता को मजबूत करने में सहायक है।

गंगा और अम्मा की श्रेणी में हिन्दी है।मन मस्त हुआ फिर क्या बोलें...गंगा के पास हिन्दी और लोकभाषा में बात हो तो मजा ही मजा..आम लोगों को इस बात से अवगत कराने के  संस्थाओं को स्कूल और कॉलेज के बच्चों को जागरूक करना होगा। हिन्दी के सबसे अधिक पाठक हैं पर कथा कहानी सुनाने की परंपरा अब नहीं रही। इस तरह के मंच तैयार करने होंगे जहां नई पीढ़ी सीधे किस्से-कहानी सुन सके।  पठन-पाठन और शोध -प्रशिक्षण की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए।


शुक्रवार, 31 मार्च 2017

हिन्दी की राष्ट्रीय स्वीकार्यता अभियान : विभिन्न दृष्टियों ,रूपों पद्धतियों का आकलन और समन्वय: गिरीश कुमार त्रिपाठी

सामान्यत : " इतिहास " शब्द से राजनीतिक व सांस्कृतिक  इतिहास का ही बोध होता है ,किन्तु वास्तविकता यह है कि सृष्टि की कोई भी वस्तु ऐसी नहीं है जिसका इतिहास से सम्बन्ध न हो । अत : साहित्य भी इतिहास से असम्बद्ध नहीं है ।साहित्य के इतिहास में हम प्राकृतिक  घटनाओं व मानवीय क्रिया -कलापों के स्थान पर साहित्यिक रचनाओं का अध्ययन ऐतिहासिक दृष्टि  करतें हैं ।यद्यपि इतिहास के अन्य क्षेत्रों की तुलना में साहित्य का इतिहास-दर्शन एवं उसकी पद्धति भी अब भी बहुत पिछड़ी हुई है ,किन्तु फिर भी समय -समय पर इस प्रकार के अनेक प्रयास हुए हैं जिनका लक्ष्य साहित्येतिहास को भी सामन्य इतिहास के स्तर पर पहुचाने का रहा है । 
हिन्दी साहित्य का इतिहास लिखने की परम्परा का आरम्भ उन्नीसवीं सदी से माना जाता है ।यद्यपि उन्नीसवीं सदी से पूर्व विभिन्न कवियों और लेखकों द्वारा अनेक ऐसे ग्रन्थों की रचना हो चुकी थी जिनमें हिन्दी के विभिन्न कवियों के जीवन- वृत्त एवं कृतियों का परिचय दिया गया है ,जैसे -चौरासी वैश्वन की वार्ता .दो सौ बावन वैश्वन की वार्ता ,भक्त माल ,कवि माला ,आदि -आदि किन्तु ,इनमें काल -क्रम ,सन -संवत आदि का अभाव होने के कारण इन्हें इतिहास की संज्ञा नहीं दी जा सकती । वस्तुत :अब तक की जानकारी के अनुसार हिन्दी साहित्य के इतिहास -लेखन का सबसे पहला प्रयास एक फ्रेच विद्वान गासां द तासी का ही समझा जाता है जिन्होनें अपनें ग्रन्थ में हिन्दी और उर्दू के अनेक कवियों का विवरण वर्ण -क्रमानुसार दिया है।इसका प्रथम भाग 1839 ई o में तथा द्वितीय 1847 ई o में प्रकाशित हुआ था। 1871 ई o में इसका दूसरा संस्करण प्रकाशित हुआ ,जिसमें इस ग्रन्थ को तीन खण्डों में विभक्त करते हुए पर्याप्त संशोधन -परिवर्तन किया गया है । इस ग्रन्थ का महत्त्व केवल इसी द्रष्टि से है कि इसमें सर्व प्रथम हिन्दी -काब्य का इतिहास प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है तथा कवियों के रचना काल का भी निर्देश दिया गया है ।अन्यथा कवियों को काल -क्रम के स्थान पर अंग्रेजी वर्णक्रम से प्रस्तुत करना ,काल -विभाजन-एवं युगीन प्रवृत्तियों के विवेचन का कोई प्रयास न करना ,हिन्दी के कवियों में इतर भाषाओं के कवियों को घुला -मिला देना आदि ऐसी त्रुटियाँ हैं जिनके कारण इसे "इतिहास "मानने में संकोच होता है ।फिर भी ,उनके ग्रन्थ में अनेक त्रुटियों व न्यूनताओं के होते हुए भी हम उन्हें हिन्दी -साहित्येतिहास -लेखन की परम्परा में ,उसके प्रवर्तक के रूप में ,गौरव पूर्ण स्थान देना उचित समझते हैं ।
तासी की परम्परा को आगे बढ़ाने का श्रेय शिवसिंह सेंगर को है ,जिन्होंनें "शिव सिंह सरोज "(1883)में लगभग एक सहस्त्र भाषा-कवियों का जीवन -चरित्र उनकी कविताओं के उदाहरण सहित प्रस्तुत करनें का प्रयास किया है ।कवियों के जन्म काल ,रचना काल आदि के संकेत भी दिये गये हैं ,यह दूसरी बात है कि वे बहुत विश्वशनीय नहीं हैं ।इतिहास के रूप में इस ग्रन्थ का भी महत्त्व अधिक नहीं हैं ,किन्तु फिर भी इसमें उस समय तक उपलब्ध हिन्दी -कविता सम्बन्धी ज्ञान को संकलित कर दिया गया है ,जिससे परवर्ती इतिहासकार लाभ उठा सकते हैं -इसी दृष्टि  से इसका महत्त्व है ।
सन 1888 में ऐशियाटिक सोसाइटी आफ बंगाल की पत्रिका के विशेषांक के रूप में जार्ज ग्रियर्सन द्वारा रचित ' द मॉडर्न  वर्नाकुलर ऑफ़ हिंदुस्तान ' का प्रकाशन हुआ ,जो नाम से इतिहास न होते हुए भी सच्चे अर्थों में हिन्दी -साहित्य का पहला इतिहास कहा जा सकता है ।इस ग्रन्थ के अन्तर्गत ग्रियर्सन नें हिन्दी -साहित्य का भाषा की द्रष्टि से क्षेत्र निर्धारित करते हुए स्पष्ट किया है कि इसमें न तो संस्कृत -प्राक्रत को शामिल किया जा सकता है और न ही अरबी -फारसी -मिश्रित उर्दू को ।ग्रन्थ को काल खण्डों में विभक्त किया गया है तथा प्रत्येक अध्याय काल विशेष का सूचक है।प्रत्येक काल के गौड़ कवियों का अध्याय विशेष के अंन्त में उल्लेख किया गया है।विभिन्न युगों की काब्य प्रवृत्तियों की व्याख्या करते हुए उनसे सम्बधित सांस्कृतिक परिस्थतियों और प्रेरणा -स्रोतों के भी उद्दघाटन का प्रयास उनके द्वारा हुआ है ।

मिश्र बन्धुओं द्वारा रचित 'मिश्र बन्धु 'चार भागों में विभक्त है ,जिसके प्रथम तीन भाग 1913 ई o में प्रकाशित हुआ।इसे (ग्रन्थ को )परिपूर्ण एवं सुव्यवस्थित बनाने के लिए उन्होंनें इसमें लगभग पाँच हजार कवियों को स्थान दिया है तथा ग्रन्थ को आठ से भी अधिक काल खण्डों में विभक्त किया है ।इतिहास के रूप में इस ग्रन्थ की विशेषता यह है कि इसमें कवियों के विवरणों के साथ -साथ साहित्य के विविध अंगों पर पर्याप्त प्रकाश डाला गया है तथा अनेक अज्ञात कवियों को प्रकाश में लाते हुए उनके साहित्यिक महत्त्व को स्पष्ट करने का प्रयास किया गया है ।आधुनिक समीक्षा- द्रष्टि से यह ग्रन्थ भले ही बहुत सन्तोष जनक न हो ,किन्तु इसमें कोई सन्देह नहीं कि इतिहास लेखन की परम्परा को आगे बढ़ाने में इसका महत्त्व पूर्ण योगदान है | 
हिन्दी साहित्येतिहास की परम्परा में सर्वोच्च स्थान आचार्य रामचन्द्र शुक्ल द्वारा रचित 'हिन्दी साहित्य का इतिहास '(1929)को प्राप्त है ,जो मूलत :नागरीप्रचारिणी सभा द्वारा प्रकाशित 'हिन्दी शब्द सागर 'की भूमिका के रूप में लिखा गया था तथा जिसे आगे परिवर्धित एवं विस्तृत करके स्वतन्त्र पुस्तक का रूप दिया गया\ इस ग्रन्थ में आचार्य शुक्ल नें साहित्येतिहास के प्रति एक निश्चित व सुस्पष्ट द्रष्टिकोण का परिचय देते हुये युगीन परिस्थितियों के सन्दर्भ में साहित्य के विकास क्रम के व्यवस्था करनें का प्रयास किया इस द्रष्टि से कहा जा सकता है कि उन्होंनें साहित्येतिहास को विकासवाद और वैज्ञानिक द्रष्टिकोण का परिचय दिया।साथ ही उन्होंनें इतिहास के मूल विषय को आरम्भ करनें से पूर्व ही काल -विभाग के अन्तर्गत हिन्दी साहित्य के 900 वर्षों के इतिहास को चार  सुस्पष्ट काल -खण्डों में विभक्त करके अपनी योजना को एक ऐसे निश्चित रूप में प्रस्तुत कर दिया कि जिसमें पाठक के मन में शँका और सन्देह के लिये कोई स्थान नही रह जाता । यह दूसरी बात है कि नवोपलब्ध तथ्यों और निष्कर्षों के अनुसार अब यह काल विभाजन त्रुटि पूर्ण सिद्ध हो गया है ,किन्तु इसमें सन्देह नहीं कि अपनी अति सरलता व स्पष्टता के कारण यह आज भी बहुप्रचलित और बहुमान्य है । इस प्रकार, हम देखते हैं कि हिन्दी -साहित्य -लेखन की परम्परा में आचार्य शुक्ल का योगदान अत्यन्त महत्वपूर्ण है। उनका इतिहास ही कदाचित अपने विषय का पहला ग्रन्थ है जिसमें अत्यन्त सूक्ष्म एवम व्यापक द्रष्टि ,विकसित द्रष्टिकोण ,स्पष्ट विवेचन -विश्लेषण  प्रामाणिक निष्कर्षों का सन्निवेश मिलता है। इतिहास लेखन की परम्परा में आचार्य शुक्ल का महत्व सदा अक्षुण रहेगा ,इसमें कोई सन्देह नहीं।
आचार्य शुक्ल के इतिहास -लेखन के लगभग एक दशाब्दी के बाद आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी इस क्षेत्र में अवतरित हुए। उनकी 'हिन्दीसाहित्य की भूमिका ' क्रम और पद्धति की दृष्टि  इतिहास के रूप में प्रस्तुत नहीं है ,किन्तु उसमें प्रस्तुत विभिन्न स्वतन्त्र लेखों में कुछ ऐसे तथ्यों और निष्कर्षों का प्रतिपादन किया गया है जो हिन्दी -साहित्य के इतिहास -लेखन के लिये नयी द्रष्टि ,नयी सामग्री और नयी व्याख्या प्रदान करते हैं\ जहाँ आचार्य शुक्ल की ऐतिहासिक दृष्टि  की परिस्थितियों को प्रमुखता प्रदान करती है ,वहाँ आचार्य द्विवेदी नें परम्परा का महत्व प्रतिष्ठित करते हुए उन धारणाओं को खण्डित किया जो युगीन प्रभाव के एकांगी द्रष्टिकोण पर आधारित थीं ।'हिन्दी साहित्य की भूमिका के अनन्तर आचार्य द्विवेदी की इतिहास -सम्बन्धी कुछ और रचनायें भी प्रकाशित हुई। हिन्दी साहित्य उद्दभव और विकास ,हिन्दी साहित्य का आदि काल आदि। इस प्रकार हम देखते हैं कि हिन्दी साहित्य के इतिहास की -विशेषत : मध्य कालीन काब्य के स्रोतों व पूर्व -परम्पराओं के अनुसन्धान तथा उनकी अधिक सहानुभूतिपूर्ण व यथा तथ्य व्याख्या करने की द्रष्टि से आचार्य द्विवेदी का योगदान अप्रतिम है।
आचार्य द्विवेदी के ही साथ -साथ इस क्षेत्र में अवतरित होने वाले एक अन्य विद्वान डा o राम कुमार वर्मा हैं ,जिनका 'हिन्दी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास ' सन 1938 में प्रकाशित हुआ था।इसमें 693 ई o से 1693 ई o तक की कालाविधि को ही लिया गया है।सम्पूर्ण ग्रन्थ को सात प्रकरणों में विभक्त करते हुए सामान्यत : आचार्य शुक्ल के ही वर्गीकरण का अनुसरण किया गया है।डा वर्मा ने स्वयम्भू को ,जो कि अपभ्रंश के सबसे पहले कवि हैं ,हिन्दी का प्रथम कवि माना है और यही कारण है कि उन्होंने हिन्दी -साहित्य का आरम्भ 693 ई o से स्वीकार किया है ।ऐतिहासिक व्याख्या की द्रष्टि से यह इतिहास आचार्य शुक्ल के गुण -दोषों का ही विस्तार है ,कवियों के मूल्याँकन में अवश्य लेखक नें अधिक सह्रदयता और कलात्मकता का परिचय दिया है ।अनेक कवियों के काव्य-सौन्दर्य का आख्यान करते समय लेखक की लेखनी काव्यमय हो उठी है ,जो कि डा o वर्मा के कवि -पक्ष का संकेत देती है।शैली की इसी सरसता व प्रवाहपूर्णता के कारण उनका इतिहास पर्याप्त लोकप्रिय हुआ है।

विभिन्न विद्वानों के सामूहिक सहयोग के आधार पर लिखित इतिहास -ग्रन्थों में 'हिन्दी -साहित्य 'भी उल्लेखनीय है ,जिसका सम्पादन डा o धीरेन्द्र वर्मा ने किया है।इसमें सम्पूर्ण हिन्दी साहित्य को तीन कालों -आदि काल ,मध्य काल ,एवं आधुनिक काल -में विभक्त करते हुए प्रत्येक काल की काब्य -परम्पराओं का विवरण अविछिन्न रूप से प्रस्तुत किया गया है। कुछ दोषों के कारण इस ग्रन्थ की एक रूपता ,अन्विति एव संश्लेषण का अभाव परिलक्षित होता है ,फिर भी ,हिन्दी साहित्येतिहास लेखन की परम्परा में इसका विशिष्ट स्थान है।
उपर्युक्त इतिहास -ग्रंथों के अतिरिक्त भी अनेक -शोध प्रबन्ध और समीक्षात्मक ग्रन्थ लिखे गए हैं जो हिन्दी साहित्य के सम्पूर्ण इतिहास को तो नहीं ,किन्तु उसके किसी एक पक्ष ,अंग या काल को नूतन ऐतिहासिक द्रष्टि और नयी वस्तु प्रदान करते हैं ।ऐसे शोध- प्रबन्ध या ग्रन्थ हैं -डा o भगीरथ मिश्र का हिन्दी काव्य शास्त्र का इतिहास ,डा o नगेन्द्र की रीतिकाव्य की भूमिका ,श्री विश्व नाथ प्रसाद मिश्र का हिन्दी साहित्य का अतीत ,डा o टीकम सिंह का हिन्दी वीर काव्य ,डा o लक्ष्मी सागर वार्ष्णेय का आधुनिक काल सम्बन्धी शोध प्रबन्ध आदि ऐसे शताधिक ग्रन्थ प्रकाशित हुए हैं जिनके द्वारा हिन्दी साहित्य के विभिन्न काल खण्डों ,काव्य रूपों ,काव्य धाराओं ,उपभाषाओं के साहित्य आदि पर प्रकाश पड़ता है ।अत :आवश्यकता इस बात की है कि इन शोध -प्रबन्धों में उपलब्ध नूतन निष्कर्षों के आधार पर अद्यतन सामग्री का उपयोग करते हुए नए सिरे से हिन्दी -साहित्य का इतिहास लिखा जाये । ऐसा करने के लिए आचार्य शुक्ल द्वारा स्थापित ढाँचे में आमूल -चूल परिवर्तन करना पड़ेगा क्योंकि वह उस सामग्री पर आधारित है जो आज से पैसठ सत्तर वर्ष पूर्व उपलब्ध थी ,जबकि इस बीच बहुत सी नयी सामग्री प्रकाश में आ गयी है ।
इस प्रकार गासां द तासी से लेकर अब तक की परम्परा के संक्षिप्त सर्वक्षण से यह भली भांति स्पष्ट हो जाता है कि लगभग एक शताब्दी तक की ही अवधि में हिन्दी -साहित्य का इतिहास लेखन ,अनेक दृष्टियों ,रूपों और पद्धतियों का आकलन और समन्वय करता हुआ संतोषजनक प्रगति कर पाया है। इतना ही नहीं कि हमारे लेखकों नें विश्व -इतिहास -दर्शन के बहुमान्य सिद्धान्तों और प्रयोगों को अंगीकृत किया है ,अपितु उन्होंने ऐसे नए सिद्धान्त भी प्रस्तुत किये हैं जिनका सम्यक मूल्याँकन होने पर अन्य भाषाओं के इतिहासकार भी उनका अनुसरण कर सकते हैं ।

गुरुवार, 30 मार्च 2017

मेरे जिक्र का जुबां पे सुआद रखना: टुंडे कवाब नही यह कनपुरिया चटखारा है



'मेरे जिक्र  का जुबां पे सुआद रखना ' गाना बजते ही बुद्धू बक्सा टुंडे कवाब की कहानी बताने लगा मैंने टीवी बन्द कर अमरीक सिंह दीप की कड़े पानी का शहर उठा लिया।बकौल अमरीक सिंह दीप आप हिंदुस्तान की कितनी ही जगहों की मिठाई और चाट खाए  हो लेकिन  जो मजा कानपुर की  मिठाइयो और चाट  को चाटकर खाने में है वह ना तो बंबई में मिल सकती  ना दिल्ली में | खाना खजाना का संजीव कपूर जब भी कानपुर आते है तो उनका ठेका ठग्गू के लड्डू पर ही होता है | बुद्धसेन स्वीट  हाउस से संदेश , खोया, मंदी में हाथरस वाले की इमरतिया किसी श्रृगार रस की कविता की ही भांति रसीली हैआर्यनगर के घोष के रसगुल्लों का कहना ही क्यामिठाइयो   में कानपुर का टक्कर सिर्फ बनारस ही ले पाता  है भीखाराम महावीर प्रसाद और बिराहना रोड के अर्जुन सिंह  की कचौड़ियाँ १६ दोनों में तरह तरह की सब्जियों चटनियों और रायते के साथ जब सामने होती है ... आह क्या कहने..

कानपुर में जलेबी सुबह हर हलवाई बनाता है जैसे मन्दिर में सुबह पुजारे भगवान् का पूजन करता है वैसे दही जलेबी का कलेवा करना यहाँ नाश्ते में  शुमार  है |कानपुर में गरीब और मध्यम वर्ग के लोग अधिक रहते है लेकिन यह शहर किसी को भूखा नहीं सोने देता |

यहाँ के कारीगर गरीब हैं इसलिए भूख का दर्द जानते है | इसलिए कम से कम कीमत पर अपना उत्कृष्ट सामान उत्पादित कराते है नयागंजा चौराहे के कुछ दूर खडा होने वाला शंकर पानी के बताशे वाला अब भी दो रुपये में पानी के चार बताशे देता है लेकिन उसका बताशों का पानी अद्भुत होता है | जलतरंग की प्यालियों से सजे बताशों के पानी के मर्तबान | उनमें घुला सोंठ , जीरा , हींग पुदीना , खटाई और जाने क्या क्या | खाने वाला एक बार खाना शुरू करता है तो गिनती भूल जाता है | क्या खाक  मुबंई की पानी पूरी मुकाबला करेगी इनका। 
पिछले बीस बरसों से कानपुर में सर्दियों में झाग  वाला मक्खन खूब बिकता है मिट्टी की प्यालियों में हलके केसरी रंग के मक्खन की झाग    खाना ज़रा मुश्किल  काम है पर यह झागदार  मक्खन इतना स्वादिष्ट होता है कि एक प्याली से मन नहीं भरताऐसे  झागदार मक्खन के मुख्य बाजार बीराहाना रोड और नयागंज है |
कानपुर की चाट के लिए स्वाद के विकास में यहाँ के मेस्टन रोड से लेकर बिरहाना रोड तक फैले थोक के व्यापार के आढ़तियो का बड़ा हाथ है | टी टेस्टर की तरह ही ये सब चाट के स्वाद के मर्मज्ञ है | चाट में मसली का अनुपात ज़रा भी गड़बड़ाते   ही ये टोक देते है - गुरु आज तुम्हारा जीरा ठीक से भुना नहीं है | कानपुर में चाट की सबसे बड़ी दुकान पी. रोड पर हरसहाय जगदम्बा सहाय स्कूल के पास हैहनुमान  चाट भण्डार.  यहाँ चाट खाने के लिय खासे धैर्य की जरूरत है | धनिये वाले आलो, नवीन मार्केट में बिरहना रोड पर उम्दा मिलते हिया रिजर्व बैंक के सामने मुन्ना चाट भंडार , नवीन मार्केट में भोला चाट भण्डार  हटिया का गिरिजा चाट भण्डार  किदवई नगर का शुक्ला चाट भण्डार  लाजपत  नगर का लल्ला चाट भंडार पांडू नगर का लूटू चाट भंडार कानपुर के मशहूर चाट भंडार है |
पाठको मुह में पानी रहा होगा ना
तो देर किस बात कि
अरे कुछ दिन तो गुजारिये कानपुर में
और  कनपुरिये चटखारे क़ा फुलटाइम लुत्फ़ लीजिये