रविवार, 26 फ़रवरी 2017

हरियराना हमारी विरासत है

तुमने कहा ये वक्त तुम्हारा है
यह वक्त है तुम्हारे द्वारा आग लगाने का
आंधिया उठाने का
कच्ची खड़ी फसलों को बूटों से रौंद डालने का
घरों की दीवारो को ढहा देने का
जो चाहे मर्जी कर दो क्योंकि
तुमने कहा कि ये वक्त तुम्हारा है।
हमने होंठ सी लिए
तुम खुश हो जाओ और धरती पलट दो
हमे इन्तजार है उस वक्त का
जब तुम आग मूतोगे
उसी दिन हम हल लेकर निकलेंगे
तुम्हारी पलटी जमीन जोतने और बीज बोने
हमें इन्तजार है पछुआ हवाओं का
जब तुम्हारी लगाई आग जार देगी तुम्हारे ही छप्पर
हम उस राख से फ़स्ले उपजाऊ करेंगे
तुम्हारे मूतने को यूरिया में बदलकर
तिगुनी फसल घर ले आएंगे।
सुना नही तुमने हमारे पुरखे बांस थे
जिन्होंने डीऑक्सीराइबो न्यूक्लिक एसिड में
पक्के पोढे से लिखा कि
कीचड़ और कचरे के ऊपर कैसे
हचक कर जमा जाता है
हरियराना हमारी विरासत है
जिसे कोई कहके नही ले सकता।
तुम शायद आभास भी नही कर पाओगे
शक्ति बन्दूक से कभी नही निकली
शक्तिपुंज का पता घुटना और कमर नही
तुम जानते नही भोले मानुस
शक्ति का पता तो शिवत्व में है
देह को बैताल बनाये अपने कन्धे पे ढोने वालों
हम शान्ति और संतुलन से अभिमन्त्रित रहे हैं।
सिलटी दुपटी धोती और दो मुट्ठी चावल पर
हार गए थे तुम्हारे दोनों ऐश्वर्यलोक
ढाई पग और तुम्हारे आकाश पाताल
पीठ भी नही बची थी
भौतिक सुखों की ऋचाएं बनाते समय हमने गढ़ा
अपनी नियति 'केवल भिच्छा'
हमने उदघोष किया था विश्व का कल्याण हो।
सुनो परजीवी नम्बरदारों!
तुम घात लगाने की तैयारी में हो
किन्तु हम धान और गेहूं लगाने में व्यस्त हैं
अभी हमे नदियों का आँचल भरना है
फूलोे वाले खेतों को सींचना और गीत लिखने है
चाँद को तालाब में धोकर पलाश में सूरज भरना है
अरे कृतघ्नों !
हम रोटी बनाना बन्द नही करेगे
हमें तुम्हारे पेट की फ़िक्र है।

4 टिप्‍पणियां:

Onkar ने कहा…

सुन्दर रचना

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (05-03-2017) को
"खिलते हैं फूल रेगिस्तान में" (चर्चा अंक-2602)
पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

Manav Mehta 'मन' ने कहा…

बढ़िया

सु-मन (Suman Kapoor) ने कहा…

बहुत सुंदर