रविवार, 28 अप्रैल 2013

रेवडिया, बताशे और इनाम कुमार: अथातो 'विज्ञान परिषद' पुरस्कार कथा.


बताशे की गंध हवाओं में तैरने  लगी तो मैंने सोचा की क्या मै  काठमांडू पहुच गया। पर सर झटका  चश्मा उतारा तो धुल धक्कड़ देख के तसल्ली हुयी कि  अब्बै  तो कानपुर में ही है . खैर 'सामलाल' से पता चला की यह गंध तो मेरे प्यारे शहर इलाहाबाद से आ रही है. पता चला 'राष्ट्रभाषा हिन्दी के माध्यम से विज्ञान लोकप्रियकरण के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिये विज्ञान के प्रति समर्पित संस्था 'विज्ञान परिषद प्रयाग' ने अपने शताब्दी वर्ष में विभिन्न विभूतियों को  'विज्ञान परिषद प्रयाग शताब्दी सम्मान' से विभूषित किया ' 
प्रथम दृष्टया यह देख के  मन को तसल्ली हुयी कि बडे भाई   डा अरविन्द मिश्र जी को शताब्दी सम्मान से विभूषित किया गया। पुरस्कारों के 'ओरिएंटेशन' को लेकर मन में जो कान्फ्लिक्ट  था दूर होने लगा परन्तु हतभाग्य 'इनाम कुमार' जी हमेशा की तरह चिर स्मित मुसकान लिए वहा भी विराजमान थे। इसके बाद जो मैंने श्रीयुत शेषमणि जी से जानकारी प्राप्त की तो दिमाग में पुरस्कारों की  'परिकल्पना' जो बनी उसे याद करके अब भी लग रहा है की इससे अच्छा तो साला भिखारी की तरह कटोरा लेके 'बारा देवी' के चौराहे पर बैठना ठीक है. जीभ निकाले रेवाडियो का स्वाद लेने के लिए लोगो ने अपनी मान मर्यादा और पद की गरिमा को जिस तरह से ताक पर रखने का क्रम शुरू किया है उससे देखकर लगता है की वह दिन दूर नहीं जब ठेले पर इनाम रखे 'सामलाल' दरवाजे दरवाजे आवाज लगायेंगे इनाम लेल्लो, या बिसारती लोग टिकुली बिंदी चूड़ी के साथ दुई चार इनाम भी बक्से में लेके चलेंगे जाने कब कहा बाटने का मौक़ा मिला जाये।
ज्यादा क्या लिखे भाई लोग मेरे ऊपर मुकदमा करने को आतुर है इसलिए अगर हम किसी को इनाम नहीं दे सकते तो कम से कम बधाई तो दे ही दे
शताब्‍दी सम्‍मान के समापन के अवसर पर 27 अप्रैल 2013 को आयोजित कार्यक्रम में विज्ञान परिषद ने जिन दो  दर्जन से अधिक विज्ञान लेखकों को उनके अपरिमित योगदान  के लिए सम्‍मानित किया जिनमे  डॉ0 मिश्र के अतिरिक्‍त  शुकदेव प्रसाद, डॉ0 राजीव रंजन उपाध्‍याय, निमिष कपूर, मनीष मोहन गोरे, अमित कुमार एवं विशेष रूप से  ब्‍लॉगर कृष्‍ण कुमार यादव  को भी हार्दिक बधाई ।
साथ में यह न्यूज जो कि राजा हिन्दुस्तानी ने उपलब्ध करायी है, सम्मान महात्म्य के रूप में पढने से इस कथा का पूरा लाभ और पुण्य दोनों प्राप्त होगा.  
imageview