शनिवार, 21 जुलाई 2012

सोनिया,राहुल की डिग्री,पासपोर्ट की जांच हो.


आचार्य बालकृष्ण की गिरफ्तारी जिस ढंग से हुयी है उससे एक बात तो साफ हो जाती है कि इसके पीछे सोनिया और देशघाती मंत्रिमण्डल समूह का ही हाथ है. जो सरकार अफज़ल को 10 साल से मेहमाननवाजी और कसाब को 5 साल से पाल पोस रही है उससे कैसे उम्मीद की जा सकती है कि वह देशभक्तो को सहन कर लेगी. सोनिया की डिग्री फर्जी है क्या कभी किसी ने यह जानने की कोशिश की? सोनिया ने जो एफिट डेविट मे उल्लेख किया है वह सच नही है. यहा की सम्पूर्णानन्द विश्वविद्यालय की डिग्री फर्ज़ी है पर कम्ब्रिज की नही. सोनिया के सामने सूचना आयोग भी कुछ नही कर सकता और एक देशभक्त जिसने आयुर्वेद् को विश्वस्तर पर पहुचाया उसको आनन फानन मे गिरफ्तार कर लिया जाता है. राहुल को प्रधानमंत्री बनाने की पूरी तैयारी हो चुकी है पर क्य किसी को राहुल् की क्वालीफिकेशन के बारे मे पता है? जाहिर है कि उत्तर नही होगा. क्यो क्योकि वह पवित्र परिवार का वारिस है. इन तथाकथित गान्धियो के पासपोर्ट कभी चेक किये गये है? राबर्ट वाड्रा को कही भी चेक नही किया जा सकता (अभी एक सूचना अधिकार के तहत यह खुलासा हुआ है कि वाड्रा की तलासी कही भी नही हो सकती )क्यो? क्योकि वह राष्ट्रीय दामाद है.
आचार्य बालकृष्ण का अपराध क्या है? 64 हजार करोड डकारने वाला कलमाडी 1.75 लाख करोड डकारने वाला राजा 15 मंत्री इन सब पर सीबी आई कोई कार्यवाई क्यो नही करती? राजनीति को धन्धा बनाने वाले आज हमारे मालिक हो गये है. अगर आज भी हम सोये रहे, टीवी देखकर सरकार को कोसकर अपने कर्तव्य की इतिश्री करते रहे तो आने वाली नसले हमे माफ नही करेगी. जो जहा है वह वही से सरकारी कुक़ृत्य के खिलाफ आवाज उठाये चाहे आप फेसबुक पर हो या नुक्कड की दुकान पर ट्रेन मे हो या तांग़े पर बोलिये चुप न रहिये लोगो को जगाईये. लोगो को देशी जयचन्दो और विदेशी अताताईयो के बारे मे बताये. देश मे हो रही लूट और अत्याचार के बारे मे जागरूक करे. आवाज बुलन्द करे. क्रूर और जिद्दी लुटेरो के खिलाफ हल्ला बोलिये
भारत माता की जय्

सोमवार, 2 जुलाई 2012

...तुम भी कही भीगती होगी:












सावन की सीली हवाएं 
जब तन से मेरे टकराती है,
तुम्हारे कोमल छुअन की यादें
मुझे  पुकार जाती है.

धुली और पनियल सडको से
काफी हाउस आना,
घुमड़ते कारे बादलो की
फुआरों में भीज जाना.

तुम्हारे बालो का गीलापन
मेरे कंधे पर होता था,
सारा रेगिस्तान मेरा
उस पल को गायब होता था.

तुम्हारे साथ बिताई हुयी
हर शाम याद आती है,
जिस बात पर हंसी थी तुम
वो बात याद आती है.

आगे सावन बरसे ना बरसे
लेकिन बारिश लम्बी होगी,
मेरी आँखों के बादल से
तुम भी कही भीगती होगी.