रविवार, 13 मार्च 2011

...मुझमे तब कविता रचती है









रात रात भर महुए जब
धरती पर रस बरसाते है
फगुनाहट की मस्ती से 
गाँव गिराँव  हुलसाते  है
             
                 खेतों  में मधुगीत बसे जब
                 आँखे सपने बुना करती है
                मुझमे तब कविता  रचती है

दूर क्षितिज के आँगन से
एक राह निकलती दिखती है
नदी पहाड़  जंगल चलकर
मुझसे  होकर   जाती  है
                
                     कितने मिलते  कितने बिछड़े
                     सुधियाँ मन पुलकित करती है
                     मुझमे तब कविता रचती है

होठो पे  एक मुस्कान मिले
ज्ञान को जहा मान मिले
 मानवता विकसित होती हो 
ममता करुणा की  छाव तले
                        
                             योगी और निरोगी हो सब 
                             अभिलाषा  मन में उठती है
                             मुझमे तब कविता रचती है

बरसे चंदा की धवल धारा
नदियों का  आँचल भर जाए
लदे फदे तरु खिले पुष्प हो
मस्त कबीरा मौज में गाये
                           
                              पायल रुनझुन बंशी की धुन
                               ह्रदय में अमृत  भरती है
                               मुझमे तब कविता रचती है