गुरुवार, 3 फ़रवरी 2011

मौन निमंत्रण












 
मधुवन को भीनी खुशबू से
महकाए जब रजनीगंधा
अम्बर में तारो संग संग
इतराए इठलाये चंदा

मुसकाते बलखाते झरने
लगे सुनाने गीत सुहाने
उनकी धुन पर ढलकी जाए
लोरी गाये जब संझा

मौन निमंत्रण मेरा प्रियतम
आ जाओ बन आनंदा

दीप बुझे जब जग के सारे
मन में दीप जलाना तुम
बुलबुल गीत सुनाती है तब
हौले से कदम बढ़ाना तुम

चौकड़िया भरते मृगशावक
राह दिखायेगे तुमको
मेरी बंशी की धुन
मेरा पता बताएगी तुमको

मधुर रागिनी सुनकर आली
आना तुम बन वृंदा
मौन निमंत्रण मेरा प्रियतम
आ जाओ बन आनंदा