रविवार, 30 जनवरी 2011

प्यार की फ़स्ल उगाये ज़मी रहे दिल शाद मौला


 नए साल पर  मैंने अपने अमन के वास्ते  चन्द गुजारिशे की थी.. यह  गुजारिश मेरे अहले वतन और मिरे प्यारे हमवतनो की खातिर है.    देश में इस समय ज़मीं की नमी ख़तम होने को है तो मुहब्बत की ऐसी बारिश की दुआ मांगी थी  कि सदियों सदियों तक दिलो से गीलापन ख़त्म ना हो. आँखों में पानी बना रहे. 
नफरत और भ्रम ये दो चीजे ऐसी है जिससे देश आज तबाही के मुहाने पर आ गया है मै ईश्वर से आशीवार्द  के रूप में इन चीजो को ख़तम करना मागता हूँ क्युकी इनसान अब अपना ज़मीर बेच कर उपदेश देने लगा है .
मेरे मन की मुराद पूरी कर मौला.

नए साल पर पूरी कर मेरे मन की मुराद मौला
मिरे वतन के सीने पर ना हो कोई फसाद मौला

बच्चों का आँगन ना छूटे, बूढ़े नींद चैन की सोवें
बहने चहके चिडियों सी माओं की गोद आबाद मौला  

रोटी कपडा मकान हर इक  शख्स को हासिल हो
प्यार की फ़स्ल उगाये ज़मी रहे दिल शाद मौला 

अली खेले होली, सिवई खिलाये घनश्याम ईद की
गंगा जमुना का पानी अब और नाहो बरबाद मौला

11 टिप्‍पणियां:

एस.एम.मासूम ने कहा…

एक बेहतरीन दुआ और इस दुआ मैं मुझे भी शामिल समझें

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

वक़्त और मेहनत आप जिस काम में भी लगायेंगे , उसका बेहतर नतीजा आपके सामने एक दिन ज़रूर आयेगा .
इंशा अल्लाह .
शुभकामनाएं .

Sunil Kumar ने कहा…

bhagvan aapki iksha puri kare aur meri bhi yahi dua hai , shubhkamnayen

आलोकिता ने कहा…

aman ka paigam par us waqt bhi padhi thi yah rachna bahut bhai thi aur aaj bhi bahut achi lagi aisi rachnayen jitni baar bhi padho ji nahi bharta aur dil se yahi dua nikalti hai ki aisi har dua kabool ho taki rachna sarthak ho sake

'साहिल' ने कहा…

Aameen! khoobsurat ghazal

"पलाश" ने कहा…

baahut nek duaa mangi aapne , aaj ke es time mai jb insaan sifr apne liy maanga hai , aap sari duniya k bhalai sochte hai aur karte bhi hai .
eeshwar aapki duaayen kobool kare, jisse sabhi ka bhala ho

अमित शर्मा ने कहा…

अली खेले होली, सिवई खिलाये घनश्याम ईद की
गंगा जमुना का पानी अब और नाहो बरबाद मौला

आमीन !!

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…

लगता है मौला की दुआओं क़ा असर होने लगा है

यस चंचल ने कहा…

दुआ आपकी दवा जब बन जायेगी , तभी आपकी मांगी खुशहाली आ पायेगी
चिकित्सक बन आप हमें यु ही बताते रहें
आप की हर बात को हम अगर निभातें रहे
ये धरा पावन और पवित्र तब हो जायेगी
आपकी मांगी ख़ुशी कोने कोने में छा जाएगी

chandra ने कहा…

मासूमसे जज्बात की ताकत को सलाम

chandra ने कहा…

भैया आपकी बात मै कभी कभी समझ नही पता हूँ
कभी नीम नीम कभी शहद शहद
कभी नर्म नर्म कभी सख्त