बुधवार, 26 जनवरी 2011

मत करो जाने की तुम बात.















चंदा ने ओढाई प्रीत की चूनर
धरती है लजियात,
मत करो जाने की
तुम बात.
अम्बवा के तले अमराई झरे
महुए की गमक चहु ओर फिरे,
कोयलिया बिलखात
मत करो जाने की
तुम बात.
रस घट फूटा भीगा यौवन
तरुण हो रहे कण  कण,
पुलक उठे है पात
मत करो जाने की
तुम बात.
मुग्ध हुए है हर सिंगार
बन  सेज पिया की,
चंचल नैनो की चितवन
बोलती बात हिया की.
यह मधुमास की रात
मत करो जाने की
तुम बात.





21 टिप्‍पणियां:

Abhinav Chaurey ने कहा…

Very nice :-)
Truly classical poetry. Nice word selection.

आलोकिता ने कहा…

bahut achi rachna hai sir aur gaon ki baton ka put ise aur manoram bana raha hai

आलोकिता ने कहा…

Aapki in gaon ki rachnaon ko dekh kar Nagarzun ji yaad aa jate hain

ashish ने कहा…

सुन्दर भाव प्रधान पंक्तिया . प्रियतम का दूर जाने का अंदेशा मन को किस तरह व्यथित कर जाता है , साकार हो रहा है इन पंक्तियों में .

एस.एम.मासूम ने कहा…

वाह पवन जी क्या अंदाज़ है. लुत्फ़ आया

chandra ने कहा…

इतनी सुन्दर रचना है कि पढ़कर ऐसा लगा मै चादनी में नहाकर आम की मंजरियो में खो गया हूँ .
आपकी लेखनी ऐसे ही सुन्दर सुन्दर रचनाओं को लिखती रहे
दुनिया की सुन्दरता इन्ही पंक्तियों में झलकती है

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

लाजवाब।

Udan Tashtari ने कहा…

बेहतरीन!

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

'वाह' पवन जी क्या अंदाज़ है. सचमुच लुत्फ़ आया .

Harshkant tripathi"Pawan" ने कहा…

सुन्दर अभिव्यक्ति

मनोज कुमार ने कहा…

रोचक प्रस्तुति।

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

बेहतरीन भावाभिव्यक्ति...

दीप्ति शर्मा ने कहा…

mat karo jaane ki
tum bat
...
nhi karegi vo
jaane ki baat
..
sunder rachna
.

girish pankaj ने कहा…

alag rang ki kavitaa..badhai..shubhkamanaye....

बेनामी ने कहा…

awadhi aur khari boli ka mishran tatha kavi ki kalpana atyant murmsparshi hai

chanchal ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति

chanchal ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति

chanchal ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति

शारदा अरोरा ने कहा…

gata hua man najar aata hai ..

ZEAL ने कहा…

मत करो जाने की तुम बात....
मनमोहक प्रस्तुति !

"पलाश" ने कहा…

very soft and touching poem . it says alot in few words . in hindi literature its very innovative practical with the language mixing