बुधवार, 14 जुलाई 2010

मेरा परिचय: The Son of India













हिमालय     का   बेटा    हिंद की संतान हूँ
मुझको पवन कहते है जाति का इंसान हूँ


मजहब ना मुझसे पूछिए मजहब से अनजान मै
पर  राम बसे  प्राण मेरे रहीम मेरी जान में 


ना पंजाबी ना गुजराती ना ही राजस्थान का
मेरी रगों  में बहता  लहू प्यारे हिन्दुस्तान का 

6 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत परिचय

Jai Hind Pandey ने कहा…

ham bharateey aur bharat maan ham sab ki to hamaraa khoon bhee bharateey. Hamare me bharat maan kaa prem bharaa ho aur ham maan ke liye sarvasva nichhvar karen. Yahee aap kaa sandesh aur hamara bhee sandesh.

पलाश ने कहा…

आज देश को तुम सी ही
संतानों की जरुरत है
जिनका मजहब देशप्रेम हो
ऐसे वीरों की जरूरत है
गर तुम सा ही बन जाये
परिचय हर हिन्दुस्तानी का
खत्म हो जायेगा उस दिन ही
किस्सा आरक्षण की कहानी का

Manish ने कहा…

Nice lines.....

Riteshhhh... Blogs... ने कहा…

bahut badhiyaaaa!!!! lage rahiye

ram ने कहा…

ise hi bna kar nara,
fir se hai dohrana,
na hum hindu na musalman,
na sikh aur na hi koi isai,

kyon ki sbhi hai insan..
ban jao sab ke bhai..............